कोरिया में घूमने की जगह|Koriya Tourist Places in Hindi

Spread the love

कोरिया भारत के सबसे प्रचलित राज्य छत्तीसगढ़ के सबसे उत्तरी-पश्चिमी छोर पर स्थित सबसे खूबसूरत जिलों में से एक है इसलिए यह कोरिया में घूमने की जगहों में से एक है यह जिला अपनी प्रकृति सुंदरता से भरा पड़ा है और अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए जाना जाता है। चारों ओर हरे भरे ऊंचे-ऊंचे पहाड़ जंगल नदियां और पहाड़ों से नीचे खूबसूरत झरने हैं जो पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। यहां काफी संख्या में धार्मिक स्थल मौजूद है जो दूर-दूर से सैलानियों को कोरिया में घूमने के लिए आने को मजबूर कर देते हैं वर्षा ऋतु में जलप्रपात की सुंदरता अपनी चरम सीमा पर होती है। वर्षा का पानी यहां की महत्वपूर्ण नदियों पर बनने वाले जलप्रपात की सुंदरता को निखारकर मनभावन कर देते हैं। यहां पर प्राकृतिक रूप से निर्मित कई जलप्रपात मौजूद है जो लोगों को यहां आने के लिए झकझोर कर देते हैं। तो चलिए दोस्तों आपको जानकारी देते हैं ऐसे ही बहुत खूबसूरत जगहों, नजारों की और बताते हैं कोरिया में घूमने की जगह के बारे में विस्तार से।

Table of Contents

कोरिया में पर्यटकों का आकर्षण केंद्र- Tourist Attractions of Koriya

कोरिया का प्रसिद्ध झरना अमृतधारा जलप्रपात- Famous Waterfall of Korea Amritdhara Waterfall

हसदेव नदी पर प्राकृतिक रूप से बनने वाला यह जलप्रपात कोरिया के सबसे खुबसूरत जलप्रपात में से एक है। यह Amritdhara Waterfall प्रकृति के अद्भुत सौंदर्य को प्रदर्शित करता है। 90 फीट की ऊंचाई से गिरते हुए जलप्रपात की आवाज़ काफी दूर तक सुनाई देती है जो जलप्रपात के समीप आने के लिए उत्साहित करती है। यहां चारों तरफ प्रकृति का मनोरम दृश्य आपको खूब आनंदित कर देगा, झरने की झर-झर की आवाज के बीच पंछियों की सुरीली आवाज़ आपके मन को भावविभोर कर देंगी और जिससे आपको खुबसूरत जगह को छोड़ता जाने का मन नहीं करेगा। दोस्तो यदि आप पिकनिक मनाने की सोच रहे हैं तो यह आपके लिए बेस्ट पिकनिक स्पॉट साबित होगा, । राज्य प्रशासन के द्वारा कोरिया के इस क्षेत्र को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित कर रही है।
इस जलप्रपात के समीप एक शिव मंदिर स्थित है जहां आपको भगवान शिव के दर्शन कर सकते है जो महाशिवरात्रि के दिन भव्य मेले का भी आयोजन किया जाता है। बच्चों के मनोरंजन के लिए उनके खेलने के लिए पार्क भी बनाए गए है जिससे बच्चे भी इस जगह पर आनंदित हो उठेंगे। यह जलप्रपात बैकुंठपुर से 32 किमी, मनेंद्रगढ़ से 28 किमी, अंबिकापुर से 120 किमी और रायपुर से 312 किमी की दूरी स्थित है।

korea-me-ghumne-ki-jagah

कोरिया का प्राचीन स्थल सीतामढ़ी हरचौका- koriya ka sabse prachin sthal Sitamadhi Harchauka

हरचौका का अर्थ होता है रसोई घर। छत्तीसगढ़ में राम वन गमन पथ की शुरुआत सीतामढ़ी हरचौका से होती है, यानी कि भगवान श्रीराम वनवास के दौरान कोरिया जिले में प्रवेश किए उनके चरण स्पर्श करते ही छत्तीसगढ़ के धरती धन्य हो गई। दंडकारण्य में प्रवेश का प्रथम आगमन कोरिया जिले के भरतपुर क्षेत्र में मवई नदी के तट पर सीतामढ़ी हर चौका में हुआ था। जनश्रुति के अनुसार रामायण काल में भगवान श्री राम माता जानकी और अपने अनुज लक्ष्मण के साथ यहां रात्री विश्राम किया था और भगवान श्री राम जी के कहने पर भगवान विश्वकर्मा जी ने उनके विश्राम के लिए गुफा का निर्माण करवाया था और अलग-अलग कमरों में 12 शिवलिंग का निर्माण किया था। रात्री विश्राम के पश्चात अगली सुबह माता जानकी द्वारा रसोई घर में भोजन बनाया गया था जिसके अवशेष आज भी मौजूद है यही कारण है कि इस स्थान को सीतामढ़ी हर चौका के नाम से जाना जाता है।

korea-me-ghumne-ki-jagah-sitamadhi-harchauka-chhattisgarh

कोरिया का फेमस टूरिस्ट प्लेस गौरघाट जलप्रपात- Korea ka famous tourist place Gaurghat waterfall

बैकुंठपुर से होते हुए तर्रा के रास्ते गौरघाट तक पहुंच सकते हैं। चिरमिरी और बैकुंठपुर से 35 किमी की दूरी पर स्थित घने जंगलों के बीच हसदेव नदी पर पहाड़ों के बीच से होता होकर 70-80 फीट की ऊंचाई से गिरता यह खुबसूरत जलप्रपात आपके मन को मंत्रमुग्ध कर देगा। दोस्तों, आप अपने परिवार के साथ या फिर अपने दोस्तों के साथ छुट्टियों के साथ-साथ पिकनिक मनाने की सोच रहे हैं तो आप यह जरूर आ सकते हैं। यदि आप ट्रैकिंग करने के शौकीन हैं तो यह स्थान आपको ट्रैकिंग के सफर को और भी आनंद और खुशनुमा बना देगा।

gaurghat-waterfall-korea-chhattisgarh

कोरिया का प्रसिद्ध स्थल सीतामढ़ी घाघरा- koriya ka prasidh sthal Sitamadhi Ghaghara korea

जनकपुर से 40 किलोमीटर की दूरी पर घाघरा पहुंचने के बाद 2 किलोमीटर जंगल के रास्ते होते हुए रांपा नदी के तट तक पहुंचना होगा। यह माना जाता है कि भगवान श्री राम छत्तीसगढ़ में प्रवेश करते ही सीतामढ़ी हर चौका के बाद यह दूसरा पड़ाव घघरा नामक गांव का यह स्थान था। यह स्थान रांपा नदी के तट पर स्थित है यहां पर भी गुफे का निर्माण किया गया है जिसमे तीन कमरे है उन तीनों कमरों में भगवान श्रीराम जी द्वारा शिवलिंग स्थापित किए गए थे।

और पढ़े- छत्तीसगढ़ के प्रमुख पर्यटन स्थल।

कोरिया का छुट्टियां बिताने की बेस्ट जगह रामदाह जलप्रपात- koriya me chuttiya bitane ki best jagah Ramdah jalprapat

बनास नदी पर बना यह जलप्रपात बिलासपुर से 280 किमी, जनकपुर (कोरिया) से 35 किमी की दूरी पर स्थित है। यह कोरिया के प्राकृतिक रूप से निर्मित जलप्रपात है, जो बारिश के दिनों में इस जलप्रपात की खुबसूरती को बढाता है। दोस्तों आपको यहां पहुंचने के दो रास्ते मिलेंगे आप रोड से होते हुए सीधे जलप्रपात तक पहुंच सकते हैं और यदि आप ट्रैकिंग के शौकीन हैं तो आप कुछ किमी की दूरी ट्रैकिंग कर भी पहुंच सकते हैं। यह ट्रैकिंग का सफर घने जंगलों के बीच प्रकृति की खुबसूरत वादियों से होकर गुजरता है रास्ते में आपको कई प्राचीन मंदिर मिलेंगे जिनका दर्शन करते हुए नदी की कल कल की आवाज सुनते हुए ट्रैकिंग के आनंद के साथ जलप्रपात तक पहुंच सकते हैं। यहां ट्रैकिंग करने में आपको इतना आनंद मिलेगा कि आप प्रकृति को धन्यवाद कहने से रोक नही पाएंगे। तो दोस्तों आप यहां आएं और प्रकृति की इस खुबसूरती का भरपूर आनंद लें।

korea-me-ghumne-ki-jagah-ramdaha-waterfall

और पढ़े- रायपुर में घूमने के जगहों की जानकारी।

कोरिया का पवित्र स्थान पोडी जगन्नाथ मंदिर- koriya ka pavitra sthan podi jagannath temple

यह जगन्नाथ मंदिर कोरिया जिले के चिरमिरी में खड़गवा जनपद पंचायत के पोड़ी ग्राम पंचायत में स्थित है इसलिए इस मंदिर को पोड़ी का जगन्नाथ मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। यह कोरिया जिले के सबसे खुबसूरत धार्मिक स्थलों में से एक है। यह मंदिर उत्कल समाज और ओडिशा के पुरी जगन्नाथ मन्दिर के तर्ज पर इसका निर्माण किया गया है पूरी जगन्नाथ की तरह ही इस मंदिर के गर्भगृह में भगवान जगन्नाथ, भगवान बलभद्र और माता सुभद्रा जी के दर्शन करने को मिलेंगे। यह मंदिर थोड़ी ऊंचाई पर बना हुआ है जहाँ कुछ सीढियाँ चढ़कर पहुंचना है। इस मंदिर प्रांगण में भगवान शिव जी का भी मंदिर है। प्रतिवर्ष महाशिवरात्रि के शुभ अवसर पर इसे त्योहार की तरह मनाया जाता है और भव्य मेले का भी आयोजन किया जाता है।

podi-jagannath-temple-chirmiri-korea-chhattisgarh

कोरिया का एकमात्र टाइगर रिजर्व गुरू घासीदास राष्ट्रीय उद्यान – koriya ka ekmatra Tiger Reserve Guru Ghasidas rashtriy udhan

गुरू घासीदास राष्ट्रीय उद्यान यह छत्तीसगढ़ का सबसे बड़ा राष्ट्रीय उद्यान है और 1440 किमी में फैला हुआ है। यह राष्ट्रीय उद्यान रायपुर से 320 किमी, बिलासपुर से 210 किमी और बैकुंठपुर से 30 किमी की दूरी पर है। यह राष्ट्रीय उद्यान सघन वनों से घिरा हुआ और अपनी जैव विविधता के लिए पूरे छत्तीसगढ़ में ही नहीं संपूर्ण भारत में चर्चित स्थान है। यहां आपको शेर, भालू, चीतल आदि बहुत सारे जंगली जानवर देखने को मिलेंगे। इसे छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा टाइगर रिजर्व (Tiger Reserve) बनाने की घोषणा की गयी है। यह छत्तीसगढ़ राज्य का चौथा टाइगर रिजर्व साबित होगा। राजकीय पशु वन भैसा, पहाड़ी मैना और विलुप्त हो रहे गिद्धों के संरक्षण भी इसी राष्ट्रीय उद्यान में करने की योजना है। कोरिया के इस राष्ट्रीय उद्यान के आस पास में घूमने के लिए और भी बहुत सी जगहें हैं जिन्हे आप घूम सकते है-

  • आमापानी (गोपद नदी का उद्गम स्थल)
  • हसदेव नदी का उद्गम स्थल
  • खेखड़ा हिल टॉप
  • गंगा रानी माता की गुफा
  • नीलकंठ जलप्रपात
  • अनंतपुर
  • बीजापुर
  • सिद्ध बाबा की गुफा

और पढ़े- जयपुर में घूमने की जगहों के बारे में जानकारी

कोरिया की सबसे खुबसूरत व्यू प्वाइंट बालमघाट- koriya ki sabse khubsurat view point Balamghat

बालमघाट कोरिया में देखने के लिए सबसे खुबसूरत व्यू प्वाइंट में से एक है। बालामघाट में आपको ऊंचे-ऊंचे पहाड़ों की श्रृंखला उनके बीच गहरी खाई देखने को मिलेगी और उस पर घने जंगलों में हरे भरे पेड़ पौधे आपके मन को उत्साहित और रोमांच से भरपूर कर देंगे। बालमघाट जाने के लिए आपको गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान से होकर 10 किमी की यात्रा तय कर जाना होगा। नदी की कल कल की आवाज़ और प्रकृति का यह विहंगम दृश्य काफी अद्भुत है जिसे देखने काफी संख्या में पर्यटक यहां पहुंचते है।

balamghat-view-point-korea-chhattisgarh

कोरिया में घूमने की जगह झुमका बांध- koriya me ghumne ki jagah Jhumka bandh

यह कोरिया के बैकुंठपुरमें स्थित है और पर्यटकों के लिए मुख्य आकर्षण का केंद्र है। यह जलाशय (बांध) काफी बड़े क्षेत्र में फैला हुआ अपनी सुन्दरता को प्रदर्शित करता है। यह स्थान आपके छुट्टियोंका समय व्यतीत करने और पिकनिक मनाने के लिए बेस्ट पिकनिक स्पॉट (Best Picnic Spot) साबित हो सकता है। इस बांध के समीप ही एक बहुत बड़ी मानव निर्मित मछली है जिसको अंदर से एक्वेरियम का रूप दिया गया है जहां आपको अलग-अलग प्रकार की और सुंदर मछलियां देखने को मिलेंगी। आप यह बोट राइडिंग और वाटर स्पोर्ट्स जैसे रोमांचक खेलों का भरपूर आनंद उठा सकते हैं।

jhumka-bandh-(dam)-korea-chhattisgarh

कोरिया का फेमस राजमहल कोरिया पैलेस- koriya ka famous rajmahal korea Palace

कोरिया जिला मुख्यालय बैकुंठपुर पर स्थित कोरिया का पुराना राजमहल हुआ करता था इसका निर्माण 1948 में राजा रामानुज प्रताप सिंह देव ने करवाया था। यह जिले का मुख्य आकर्षण का केंद्र है जिसे देखने काफी संख्या में पर्यटक यहां पहुंचते रहते हैं। यह राजमहल जो पर्यटकों के बीच इसलिए आकर्षण का केंद्र बना हुआ है क्योंकि इसके निर्माण कार्य में किसी भी प्रकार का सीमेंट का उपयोग में नहीं किया गया है चिनाई कार्य के लिए सिर्फ पत्थरों और चूने का उपयोग किया गया है जिसकी वास्तुकला देखते ही बनती है।

korea-palace-chhattisgarh

कोरिया में घूमने का सबसे अच्छा समय- Best time to visit in koriya

सम्पूर्ण कोरिया नदियों, झीलों, तालाबों और झरनों से भरा पड़ा है जिसकी खूबसूरती का आनंद वर्षा के दिनों में ही लिया जा सकता है। वैसे तो 12 महीने यहां घूमने के लिए अनुकूल है फिर भी कोरिया में घूमने के लिए वर्षा ऋतु ही बेस्ट time रहेगा।

निष्कर्ष- Result/ Conclussion

दोस्तों तो यह था कोरिया में घूमने की जगहों की संपूर्ण जानकारी, दोस्तों मैंने कोरिया के प्रमुख पर्यटन स्थलों की जानकारी विस्तार से देने का प्रयास किया। मै आशा करता हूं यह पोस्ट korea me ghumne ke liye काफी मददगार साबित होगा।

यदि यह आर्टिकल korea me ghumne ki jagah अच्छा लगा तो आप इसे अपने दोस्तों और फैमिली के बीच शेयर जरूर करें।

Leave a Comment

%d bloggers like this: